Knowledge of some computer courses after graduation स्नातक के बाद होने वाले कुछ कंप्यूटर कोर्स की जानकारी ।

Knowledge of some computer courses after graduation स्नातक के बाद होने वाले कुछ कंप्यूटर कोर्स की जानकारी ।

computer courses after graduation स्नातक के बाद होने वाले कुछ

कंप्यूटर कोर्स की जानकारी ।

 

 

1. एमसीएसई प्रमाणपत्र MCSE CERTIFICAT
2. टैली TALLY
3. एमसीए MCA
4. सीसीएनए प्रमाणपत्र CCNA CERTIFICAT
5.एमएससी M.SC.
6 .एमई या एम टेक ME OR M.TECH
7.डिजिटल विपणन DIGITAL मार्केटिंग
8. सॉफ्टवेयर परीक्षण SOFTWARE TESTING
9.प्रोग्रामिंग भाषाएँ PROGRAMING LANGUAGES
10.एनीमेशन और वीएफएक्स ANIMATION AND VFX

1.एम सी एस ई प्रमाणपत्र MCSE CERTIFICATE computer courses

एम सी एस ई का फुल फॉर्म माइक्रोसॉफ्ट प्रमाणित समाधान विशेषज्ञ ( microsoft certified solutions ecpert ) है।
यह प्रशिक्षण प्रोग्राम्स माइक्रोसॉफ्ट ने विकसित किया है।
या प्रशिक्षण प्रोग्राम माइक्रोसॉफ्ट प्रोधोगिकी, उत्पादों और सॉफ्टवेयर पर केंद्रित है।
यह प्रोग्राम्स आम तौर पर 6 से 8 महीनों का होता है ।इस
प्रोग्राम्स मे विभिन्न प्रमाण पत्र प्रदान किये जाते हैं।

 

1 डेटा विश्लेषण ( DATA ANALYTICS)
2 उत्पादकता ( PRODUCTIVITY )
3 व्यवसाय एप्पलीकेशन ( BUSINESS APPLICATION)
4 क्लाउड टेक्नोलॉजी ( CLOUD TECHNOLOGEY )

 

Animation Course and Visual Effects Some important information एनिमेशन कोर्स से विजुअल इफेक्ट जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी।

2.   टैली TALLY computer courses

वित्त और बैंकिंग जैसे क्षेत्रों में जल दिलचस्पी रखने वाले व्यक्ति के लिए यह प्रोग्राम  बहुत उपयोगी है टेली प्रशिक्षण आपको उपयुक्त क्षेत्र में प्रवेश प्राप्त करने में मददगार है।

को आप किसी भी प्राइवेट इंस्टिट्यूट से सीख सकते हैं।
टैली का उपयोग ।

टैली एक अकाउंटिंग का कोर्स होता है व्यवसाय मे रिकॉर्ड को तैयार रखना , कंपनी अपने बिजनेस डाटा को एक सुरक्षित सॉफ्टवेयर में उन सभी कामों के विवरण को मेंटेन रखती है इस कार्य को टैली कहा जाता है

3 .एम सी ए MCA computer courses

एमसीए का फुल फॉर्म होता है मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स होता है ।

एमसीए कोर्स करने के लिए योग्यता।

ग्रेजुएशन पूरी होनी चाहिए बीसीए बीएससी बीएससी बीकॉम बी टेक किसी भी कोर्स से।
ग्रेजुएशन में कम से कम 50% मार्क्स होना चाहिए कुछ कॉलेज जिसमें 55 भी हो सकती है यह सब कॉलेज पर डिपेंड करती है।

 

4. सी सी एन ए प्रमाणपत्र  ( CCNA CERTIFICAT ) computer courses

सीसीएनए एक आईटी इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी प्रमाणीकरण प्रोग्राम है इसकी तुलना एक व्यवसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम से की जा सकती से की जा सकती है प्रशिक्षण के द्वारा छात्रों को कौशल प्रदान किया जाता है जो की नौकरी के लिए लाभकारी साबित होंगे।

यह प्रशिक्षण आईटी के नेटवर्किंग और हार्डवेयर जैसे विषयों पर केंद्रित करता है आईटी सिस्टम बनाने संचालित करने प्रबंधित करने और बनाए रखने के लिए हमें हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है सीसीएन कोर्स आईटी सिस्टम और नेटवर्क बनाने संचालित करने प्रबंधित करने और बनाए रखने के लिए उपयोग किया जाने वाले इन सॉफ्टवेयर हार्डवेयर नेटवर्किंग तकनीकों जैसे विषयों पर केंद्रित होता है।

5.   एम एस सी M SC

एमएससी का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ साइंस होता है यह भी एक मास्टर स्तर का कोर्स है जो कि पोस्ट ग्रेजुएशन पोस्ट ग्रेजुएशन ग्रेजुएशन में किया जाता है भारत में कई एमएससी स्पेशलाइजेशन प्रोग्राम्स मौजूद हैं जो कि इस प्रकार है है इस प्रकार है है।

 

1 एमएससी कंप्यूटर साइंस मे ( M .SC. IN COMPUTER SCIENCE)

2 एमएससी आईटी सुरक्षा मे ( M .SC IN IT SECURITY)

3 एमएससी नैतिक हैकिंग और डेटा सुरक्षा सुरक्षा सुरक्षा मे ( M.SC. IN ETHICAL HACKING AND DATA SECURITY)

4 एमएससी साइबर फॉरेंसिक मे ( M.SC. IN CYBER FORNENSICS)

5 एमएसजी हार्डवेयर और नेटवर्किंग मे ( M.SC. IN HARDWARE AND NETWORKING )

6 एमएससी नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी मे M.SC. NETWORKING TECHNOLOGY )

7 एमएससी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग मे ( M.SC. IN SOFTWARE ENGINEERING )

 

6. एमई या एम टेक ME OR M.TECH


एमई का फुल फॉर्म मास्टर आफ इंजीनियरिंग और एमटेक का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी होता है दोनों पोस्ट ग्रेजुएशन स्तर के प्रोग्राम होते हैं भले ही उनके नाम अलग-अलग है पर पर है पर यह दोनों लगभग समान पाठ्यक्रम सामग्री साझा करते हैं इन कोर्सों में आपको योग्य माना जाने के लिए आपको बीई या बीटेक पूरा करना जरूरी है।यह कोर्स 2 साल के होते हैं।

7. डिजिटल विपणन DIGITAL MARKETING


आज के समय डिजिटल मार्केटिंग की भारत में बहुत भारी गुंजाइश है यह क्षेत्र बहुत विशाल है इसके अंदर बहुत से उप उप विषय हैं

एसईओ(SEO)
एसईएम (SEM)
एसएमएम(SMM)
विज्ञापन(Advertising)
विषयवस्तु का व्यापार(Content Marketin)

 

8. सॉफ्टवेयर परीक्षण SOFTWARE TESTING

सॉफ्टवेयर परीक्षण क्षेत्र में बहुत अधिक स्कोप ऑफ पोटेंशियल पोटेंशियल ऑफ पोटेंशियल है सॉफ्टवेयर परीक्षण पाठ्यक्रम उन छात्रों के लिए बहुत अच्छा है जिनके पास सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और प्रोग्रामिंग के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान है।
यदि आपने सीएस जैसे बीटेक बीएससी बीसीए इत्यादि बीएससी बीसीए इत्यादि से संबंधित 1 डिग्री कोर्स पूरा कर लिया है तो आप स्नातक स्तर के बाद सॉफ्टवेयर परीक्षण प्रोग्राम्स के लिए जा सकते हैं ।
कुछ लोकप्रिय सॉफ्टवेयर परीक्षण पाठ्यक्रम प्रारूप प्रारूप सॉफ्टवेयर परीक्षण पाठ्यक्रम प्रारूप प्रारूप हैं

एमटेक
एमएससी
पीजी डिप्लोमा एडवांस डिप्लोमा
पीजी प्रमाण पत्र

पाठ्यक्रम की अवधि एक पाठ्यक्रम प्रारूप से दूसरे से भिन्न हो सकती है और एमएससी प्रोग्राम आमतौर पर 2 प्रोग्राम आमतौर पर 2 पर 2 साल लंबे होते हैं पीजी डिप्लोमा प्रोग्राम आमतौर पर 1 साल लंबे होते हैं साल लंबे होते हैं।

 

9. प्रोग्रामिंग भाषाएँ PROGRAMING LANGUAGES

भारत में कुशल प्रोग्राम की बहुत मांगे प्रोग्रामिंग पाठ्यक्रम उन छात्रों के लिए बहुत अच्छा होता है जिनके पास प्रोग्रामिंग भाषाओं के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान होता है यदि आपने सीएससी बी टेक बीएससी बीसीए बीसीए टेक बीएससी बीसीए बी टेक बीएससी बीसीए बीसीए टेक बीएससी बीसीए बीसीए आदि से संबंधित एक प्रासंगिक डिग्री कोर्स पूरा किया करा है तो आप स्नातक स्तर स्तर के बाद सॉफ्टवेयर परीक्षण प्रोग्राम के लिए जा सकते हैं।

10. एनीमेशन और वीएफएक्स ANIMATION AND VFX

आज के समय में एनिमेशन सेक्टर बहुत ज्यादा लोकप्रिय है एनिमेशन पाठ्यक्रम अक्सर वेब डिजाइनिंग ग्राफिक डिजाइन गेम डिजाइनर आदि जैसे अन्य संबंधित प्रोग्राम्स के साथ बंडल के जाते के जाते हैं यह प्रोग्राम विभिन्न प्रारूपों में उपलब्ध है।

प्रमाणीकरण ( CERTIFICATION )
पीजी डिप्लोमा ( PG DIPLOMA )
स्नातकोत्तर उपाधि ( MASTER’S DEGREE )
स्नातक की डिग्री ( BACHELOR’S DEGREE )

https://www.meity.gov.in/