कुम्भ 2019 स्नान तिथियाँ | kumbh 2019 ki tithi

Share

kumbh 2019, kumbh tithi, ishnan tithi, ganga ,yamuna, sarswati, prayagraj, allhabad, makar sankranti, paush purnima,mauni amavasya,basant panchami, maghi purnima, maha shivratri 2019
Kumbh Mela 2019 Dates

  • कुंभ मेले के बारे में कुछ जरूरी जानकारी ।kumbh mele ke bare me kuch jaruri jankari


    कुंभ मेला एक विश्व प्रसिद्ध मेला है जो कि प्राचीन काल से चला आ रहा है। पौराणिक कथाओं के अनुसार जब समुद्र मंथन किया गया जिसमें देवता और राक्षस दोनों ने सहयोग किया था । उस मंथन के दौरान अमृत कलश की प्राप्ति हुई थी। अमृत कलश पर अधिकार जमाने को लेकर देवता और असुरों मे भयंकर युद्ध हुआ हुआ । माना जाता है कि इस युद्ध के दौरान अमृत कलश से कुछ बूंदें झलक कर पृथ्वी पर चार स्थानों पर गिरी यह चार स्थान हरिद्वार, प्रयाग ,नासिक, उज्जैन हैं जिसमें प्रयाग गंगा ,यमुना ,सरस्वती के के संगम पर स्थित है तथा हरिद्वार गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है वही उज्जैन शिप्रा नदी और नासिक गोदावरी के किनारे बसा हुआ है।
    इन चारों स्थानों पर एक कुंभ मेले का आयोजन हर 12 वर्ष में एक बार होता है जिसमें प्रयागराज का कुंभ बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह तीन नदियों के संगम पर होता है सिर्फ हरिद्वार और प्रयाग राज ही एक ऐसी जगह है जहां जहां अर्ध कुंभ का भी आयोजन होता है
    अर्धकुंभ का अर्थ है दो कुंभ के बीच में एक अर्ध कुंभ कुंभ जो कि हर 6 साल में साल में एक बार आता है प्रत्येक जगह पर 12 सालों में एक बार कुंभ लगता है और कुंभ के बीच में आने वाला कुंभ अर्धकुंभ कहलाता है
    2019 प्रयागराज में जो कुंभ लग रहा है दरअसल वो अर्धकुंभ है।

जैसा कि हम सब जानते हैं कि हिंदू रीती रिवाजों में कुम्भ स्नान को बहुत महत्व दिया जाता है । क्योंकि कुम्भ में स्नान करने से व्यक्ति अपने सभी पापों को धो देता । इन स्नानो को पवित्र तिथि के अनुसार किया जाता है जो कि इस प्रकार हैं

  •  कुम्भ में स्नान की प्रमुख तिथियां ।

    Kumbh me snan ki pramukh tethiyn
  1. मकर संक्रांति    15 जनवरी 2019
  2. पौष पूर्णिमा      21 जनवरी 2019 
  3. मौनी अमावस्या 4 फरवरी 2019
  4. बसंत पंचमी    10 फरवरी 2019
  5. माघी पूर्णिमा    19 फरवरी 2019 
  6. महाशिवरात्रि    4 मार्च 2019
  • स्नान तिथियों का महत्व snan tethiynon ka mhatv

मकर संक्रांति :15 जनवरी 2019

मकर संक्रांति जब एक राशि से दूसरी राशि मे सुर्य के संक्रमण को मकर संक्रांति कहते हैं। भारतीय ज्योतिषयों के अनुसार बारह राशि मानी गई हैं । जब जनवरी माह में सूर्य 14 तारिख को धनु राशि से मकर राशि मे प्रवेश करता है तो मकर संक्रांति मनायी जाती है । इस तिथि को लोग व्रत और स्नान के बाद अपनी क्षमता के अनुसार कुछ न कुछ दान करते हैं

पौष पूर्णिमा:21 जनवरी 2019

पौष पूर्णिमा भारतिय पंचांग के पौष मास के शुक्ल पक्ष की 15 वीं तिथि की पौष पूर्णिमा कहते हैं पूर्णिमा को ही पूर्ण चन्द्र निकलता है ।

मौनी अमावस्या:4 फरवरी 2019मौनी अमावस्या यह माना जाता है कि इस दिन ग्रहों की स्तिथि स्नान करने के लिए बहुत अनुकूल होती है। क्योकि इस दिन प्रथम तीर्थंकर ऋषव देव ने अपना मोन व्रत तोड़ा था । ओर यहीं  संगम के पवित्र जल में स्नान करा था ।इस दिन कुम्भ में बहुत अधिक भीड़ रहती है ।                                                                           

बसंत पंचमी: 10 फरवरी 2019

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार विद्या की देवी सरस्वती के अवतरण का यह दिवस ऋतु परिवर्तन का संकेत भी है ।

माघी पूर्णिमा:19 फरवरी 2019

माघी पूर्णिमा यह दिवस गुर बृहस्पति की पूजा और इस विश्वास कि देवता गन्धर्व स्वर्ग से पधारे हैं ।

महाशिवरात्रि:4 मार्च 2019

महाशिवरात्रि यह दिन कुम्भ के स्नान का आखरी दिन होता है , यह दिन भगवान शिवजी व माता पार्वती से सीधे ज़ुरा हुआ है इसीलिए कोई भी श्रद्धालु शिवरात्रि के व्रत और स्नान से वंचित नही रहना चाहता ।

Show Comments

No Responses Yet

Leave a Reply